परिचय

हमारा परिचय

दिव्यांग-एक उम्मीद एक संस्था है जो शारीरिक रूप से विकलांग व्यक्तियों (दिव्यांगजनों) को समाज की मुख्यधारा में शामिल करने की दिशा में काम करने के लिए गत 3 वर्षों से प्रयासरत है एवं सोसाइटी रजिस्ट्रीकरण अधिनियम 1860 एवं कम्पनी अधिनियम 1950 के अन्तर्गत पंजीकरण प्रमाण पत्र संख्या 381/2016-17 द्वारा पंजीकृत है। सभी दिव्यांगजनों को एक सम्मानित जीवनशैली से जोड़कर समग्र गुणवत्ता में सुधार करने की दिशा में कार्य कर रही है l सोशल वेंचर विकास गुप्ता, बीटेक आईआईटी रुड़की ने सामूहिक प्रयासों से दिव्यांग एक उम्मीद की स्थापना की l विकास गुप्ता जी के दिमाग में इस तरह के प्रोजेक्ट पर काम करने का विचार तब आया, जब कॉलेज में अपने दूसरे वर्ष के दौरान स्वयं और दिव्यांगजनों के लिए आवंटित लाभ की सूचना ना मिल पाने की समस्या का सामना करना पड़ रहा था l तत्पश्चात कई व्यक्तिगत अनुभवों और कठिनाइयों के कारण स्वप्रेरणा से इस गंभीर समस्या का हल निकालने के लिए वर्ष 2016 में दिव्यांग-एक उम्मीद नामक संस्था का गठन किया l

अपना बीटेक की पढाई पूरी करने के बाद अपनी नौकरी को छोड़कर इस मिशन आगे बढ़ने का प्रण किया l शुरुवात के दिनों में आईआईटी रुढ़की के निदेशक डॉ. प्रदीप्ता बैनर्जी एवं प्रोफ़ेसर विनय नागिया का पूर्ण सहयोग मिला l आईआईटी एवं अन्य निजी संस्थानों के लगभग 100 विद्यार्थियों की टीम अनवरत कार्य कर रही है l

दिव्यांग-एक उम्मीद संस्था ने सभी दिव्यांगजनों को सरकारी कॉलेजों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य योजनाओं में आवंटित लाभों के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए एक मिशन के रूप में शुरू किया। हमारी सामाजिक पहल ने हमारे अल्मा मेटर IIT रुड़की से समर्थन प्राप्त किया है। ‘दिव्यांग-एक उम्मीद’ IIT रुड़की में प्रौद्योगिकी नवाचार और उद्यमिता सहायता केंद्र (TIDES) में विकास द्वारा इन्क्यूबेट किया गया है। हमारी संस्था सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा भी समर्थित है। वर्तमान में हम उत्तर प्रदेश सरकार (दिव्यांगजन विभाग, परिवहन विभाग और शिक्षा विभाग) के साथ भी काम कर रहे हैं। आईआईटी रुड़की से शुरू हुआ मिशन दिव्यांग-एक उम्मीद ने कई प्रतिष्ठित संस्थानों जैसे आईआईटी दिल्ली, आईआईएम कलकत्ता, एफएमएस दिल्ली में स्टार्टअप प्रतियोगिताओं में भाग लेकर बेहतर प्रदर्शन किया है l आने वाले समय में संस्था देश के कई संस्थानों में भाग लेकर मिशन के उद्देश्य से परिचय कराएगी और दिव्यांग जनों के जीवन को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के कार्य को सफल करेगी l

संस्था ने अपने पिछले तीन वर्षों  से में प्रदेश के विभिन्न विभागों की दिव्यांग कल्याणकारी योजनाओं, रोजगार, शिक्षा और दिव्यांग सशक्तिकरण एवं  जागरूकता के क्षेत्र में सफल एवं सराहनीय कार्य किये हैं l

Translate »